Monday, June 7, 2010

एपिलेप्सी-रोधी दवाओं के साथ वापसी

DSC02400 (Small)काफी समय पहले मैने वैतरणी नाले के पानी से कछार में खेती करते श्री अर्जुन प्रसाद पटेल की मड़ई और उनके क्रियाकलाप पर लिखा था। मैं उनकी मेहनत से काफी प्रभावित था। कल पुन: उनकी मड़ई का दूर से अवलोकन किया। उस नाले में पर्याप्त सूअर घूमते हैं। अत: उनकी क्यारियों की सब्जी में न्यूरोसिस्टिसर्कोसिस (NEUROCYSTICERCOSIS) के मामले बनाने की क्षमता होगी!
खैर, मेरी पत्नी और मैने, बावजूद इस बीमारी के, हरी सब्जियां खाना बन्द न करने का फैसला किया है!

चौबीस मई को शाम नौ बजे मुझे बायें हाथ में अनियंत्रित दौरे जैसा कुछ हुआ। तेजी से बिना नियंत्रण के हिलते हाथ को दायां हाथ पूरे प्रयास से भी नहीं रोक पा रहा था। लगभग चार मिनट तक यह चला। उसके बाद कलाई के आगे का हाथ मानसिक नियंत्रण में नहीं रहा।

मैने दो फोन किये। एक अपने बॉस को आपात अवस्था बताते हुये और दूसरा अपने रिश्ते में आनेवाले आजमगढ़ के सी.एम.ओ. ड़ा. एस.के. उपाध्याय को। बॉस श्री उपेन्द्र कुमार सिंह ने अस्पताल ले जाने की तुरन्त व्यवस्था की। ड़ा. उपाध्याय ने यह स्पष्ट किया कि मामला किसी अंग विशेष/तंत्रिकातन्त्र में स्पॉडिलाइटिस का भी नहीं, वरन मस्तिष्क से सम्बन्धित है। मस्तिष्क की समस्या जानकर मैं और व्यग्र हो गया।

अस्पताल जाने के बाद की बात आप सत्यार्थमित्र की पोस्टों के माध्यम से जान चुके हैं। वहां और अन्य प्रकार से जिन-जिन मित्र गणों ने भिन्न-भिन्न प्रकार से मेरे लिये प्रार्थना की और मेरा सम्बल बढ़ाया, उनका मैं समग्र रूप से कृतज्ञ हूं।

Gyan638-001 इस विषय में पच्चीस मई को सवेरे आई.सी.यू. में लेटे लेटे एक पोस्ट (Hand bringing to I.C.U.) दायें हाथ का प्रयोग कर उपलब्ध संसाधन (मोबाइल फोन) से लिखी, बनाई (बायें हाथ का मोबाइल से लिया चित्र संलग्न करते) और पोस्ट की (ई-मेल से); उसे ब्लॉगिंग की विशेष उपलब्धि मानता हूं। ऐसी दशा में कितने लोगों ने ब्लॉग-पोस्ट लिखी होगी? कह नहीं सकता।

अभी लगभग पच्चासी प्रतिशत उबर गया हूं मैं। अस्पताल से छुट्टी मिल गई है। अब घर पर हूं – २४ जून तक।

Arjun111 मुझे न्यूरोसिस्टिसर्कोसिस (NEUROCYSTICERCOSIS) का मरीज मान कर उपचारित किया जा रहा है। मस्तिष्क के दायें सामने के हिस्से में हल्की सूजन से ग्रस्त पाया गया। यह सूजन पोर्क (सूअर के मांस)/प्रदूषित जल/जल युक्त खाद्य (पत्ता गोभी, पालक आदि) से सम्भव है। मेरे मामले में मांस तो नहीं है, दूसरे कारण ही लगते हैं।

न्यूरोसिस्टिसर्कोसिस की दवायें तो लगभग एक-दो महीना चलेंगी पर एपिलेप्सी-रोधी दवायें मुझे कुछ साल तक लेनी होंगी। अर्थात लगभग दो-तीन साल की ब्लॉगिंग इस घटना की छाया में होगी!

धन्यवाद, मेरे वैर्चुअल और क्वासी-वर्चुअल जगत के मित्रों!


62 comments:


  1. स्वागत है ।
    ब्लॉगर पर आपके द्विरागमन की बधाईयाँ ।
    Hmm.. Neurocysticercosis !
    कच्ची और हरी सब्जियाँ यदि पोटेशियम परमैंग्नेट से धोकर या तेज धार बहते पानी से धो कर खायी जायें, तो बचत रहती है,, यह खुले में शौच करने से प्रदूषित मृदा का खमियाजा है । अक्सर लोग मूली या गाजर को जड़ की ओर से खाना पसँद करते हैं । अधिकतर बेनाइन होती हैं, यदि ऍलाइज़ा टेस्ट पॉजिटिव नहीं है, तो केवल एन्टी ऍपिलेप्टिक दवाओं से ही काम चल जाता है । बाई दॅ वे ज़ूलियस सीज़र इस रोग का पहला ज्ञात रोगी है ।

    अब एक.. नहीं एक-दो नन्हा सा मज़ाक कर लूँ ?
    एक- इस रोग का नाम ही बड़ा इम्प्रेसिव है , जो लहीम शहीम ओहदेदारों पर ही सोहता है ।
    दो- बलिहारी उन टीनिया सोलियम का जो आपकी मानसिक मथानी में भी जीवित रह पायीं !
    टेन्शन नहीं लेने का, जल्दी सोने का, और भी बहुत बहुत बहुत कुछ
    वह बाद में बतायेंगा ।

    ReplyDelete
  2. न्यूरोसिस्टिसिरोसिस के बारे में कुछ कहने की क्षमता नहीं है परन्तु आप स्वस्थ हैं (अभी ८५% ही सही - जल्दी ही पूर्णरुपेन) इसकी बड़ी प्रसन्नता है. अपना ध्यान रखिये और प्रशिक्षित चिकित्सकों की सलाह का पूर्णतया पालन करने का भरसक प्रयत्न कीजिए.

    ReplyDelete
  3. आपको स्वस्थचित्त देखकर प्रसन्नता हुई ...शीघ्रातिशीघ्र पूर्ण स्वास्थय लाभ होने की शुभकामनायें स्वीकार करें ...!

    ReplyDelete
  4. आपके पूर्ण स्वस्थ होने की शुभकामना
    सावधानी बरतें, डाक्टर के दिशा निर्देशों का पालन करे.

    ReplyDelete
  5. आप आये बहार आयी ...! शुभागमन !

    ReplyDelete
  6. शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  7. इतने दिनों बाद फिर से आपकी पोस्ट देख एक तरह का सुखद अनुभव हो रहा है।

    आपके शीघ्र स्वास्थ्य लाभ हेतु ईश्वर से प्रार्थना करता हूँ। उम्मीद है आप फिर से जल्द से जल्द पूरी तरह से स्वस्थ हो जाएंगे।

    ReplyDelete
  8. सर जी, पिछले पन्द्रह-बीस दिन से मैं भी ब्लोगिंग से दूर थी. इसलिए आपकी बीमारी के बारे में पता नहीं चला. बाज़ पर खबर मिली थी कि आप आराम कर रहे हैं, पर तब भी ये नहीं मालूम था कि ये बात है. मुझे अच्छा नहीं लग रहा है, बिल्कुल भी नहीं. अपनी सेहत का ध्यान रखिये नहीं तो हमलोग आपसे बोलना बंद कर देंगे. समझे !
    हाँ सब्जियां खाना बंद मत कीजिये पर उन्हें काटने से पहले लगभग पाँच मिनट तक नमक पानी में भिगो दीजिए. मैं यही करती हूँ. दिल्ली में तो सब्जियां बहुत ही ज्यादा प्रदूषित हैं.
    मैं भी सिद्धार्थ जी की तरह कहूँगी कि बस कीजिये. थोड़ा कम कर दीजिए . प्लीज़ !!!!

    ReplyDelete
  9. आशा है आप शीघ्र स्वस्थ होंगे। एक डाक्टर कहते हैं कि जिस तरह से हमलोग सब्जियाँ खाते हैं, उनका कोई लाभ नहीं बचता। पकाने में सब नष्ट हो जाता है सिवाय फाइबर के। लिहाजा यदि आवश्यक फाइबर की पूर्ति होती रहे तो इन्हें खाने की कोई आवश्यकता नहीं है। भारतीय पाक पद्धति में सब्ज़ियाँ 'लक्ज़री का दिखावा' भर हैं। :(

    @ डा. अमर कुमार

    खुले में शौच इस अभिशप्त सभ्यता की एक बड़ी व्याधि है।

    ReplyDelete
  10. आप को यहाँ वापस देख कर सुखद अनुभूति हुई। आप शीघ्र पूर्ण स्वस्थ हों!
    आप की इस अस्वस्थता का मूल आप की कार्यपद्धति में नहीं था, यह जान कर अच्छा लगा।

    ReplyDelete
  11. न्यूरोसिस्टीसर्कोसिस का पता तो स्कैनिंग से चल ही जाता है. यदि निदान पक्का हो तो इलाज अवश्य ही प्रभावी होगा.

    एपिलेप्सी की दवाओं से आपका पीछा छूटना मुश्किल है. शरीर इनका आदी हो जाता है. ये सभी न्यूरोट्रान्स्मीटर्स को प्रभावित करते हैं इसलिए इनसे कई अनचाहे बदलावों को भी झेलना पड़ सकता है.

    बाकी, मुझे नहीं पता यदि किसी और ने कभी इन हालातों में अपनी पोस्ट लिखी हो. अब आपको स्वयं को बहुत सी चीज़ों से या तो विरत रहना होगा या संतुलन बनाकर चलना होगा. आप नहीं चाहेंगे तो परिवार वाले कर ही देंगे. हमारी शुभकामनायें आपके साथ हैं.

    ReplyDelete
  12. पूर्ण स्वस्थ होने के लिए शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  13. वाह! बहुत खूब! अब फ़िर जमकर लिखिये-टिपियाइये।

    हम यहां भी आपसे सीनियर हैं! करीब पन्द्रह साल एन्टीएपिलिप्सी दवा खाकर फ़ाइनली इससे तीन-चार साल पहले निजात पायें हैं। आपको कमनींद की परेशानी थी अब दवाओं से नींद आने लगेगी। दवा नियमित खाइये। मस्त रहिये।

    ReplyDelete
  14. पांडेय जी, आप के स्वास्थ्य के बारे में इस पोस्ट के माध्यम से जान कर चिंता हुई। लेकिन इत्मीनान इस बात का बहुत है कि कारण पता लग चुका है और सब कुछ नार्मेल्सी की तरफ़ तेज़ी से लौट रहा है।

    परमात्मा से आप के सदैव सकुशल रह कर हिंदी जगत की सेवा करने की प्रार्थना है।

    अब देखिये आप जैसे लोग जो कभी मांस वांस को नहीं लेते, इस तकलीफ़ से बच नहीं पाए ---- पता नहीं, यह प्रदूषण हमें कहां ले जायेगा। बहरहाल, अपना ध्यान रखिये ----यह अच्छा है आप आजकल आराम कर रहे हैं ---ज़रूरी है।
    ढेरों शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  15. जल्‍द स्‍वास्‍थ्‍य लाभ के लिए शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  16. आपकी हिम्मत प्रेरणादायक है , हो सके तो किसी होमिओपैथ मित्र से भी सलाह करें !
    सादर शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  17. मन प्रसन्न हुआ आपकी वापसी पर. जल्द पूर्ण स्वस्थ हो जाईये. शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  18. स्वागत है । जल्‍द स्‍वास्‍थ्‍य लाभ के लिए शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  19. स्वागतम,स्वास्थ्य लाभ हेतु शुभकामनाऎं।

    ReplyDelete
  20. jaldi se aap poori tarah se swasth ho jaen. is awastha men bhi blog lekhan to shayd hi kisi ne kiya hoga. mujhe lagta hai poorna swasth hone tak aap vishram karen blog lekhan to chalta hi rahega.

    ReplyDelete
  21. ब्लॉग जगत में आपको फिर से देख प्रसन्नता हो रही है.

    ReplyDelete
  22. Welcome Gyan Ji! Its nice to see you back... Take loads and loads of care of yourself.
    सब अच्छा हो जायेगा... सब कुछ...

    ReplyDelete
  23. अच्छा लगा जी अब आप ठीक हैं
    जल्द से जल्द पूरी तरह स्वस्थ हो जायें
    यही शुभकामना

    प्रणाम

    ReplyDelete
  24. शिवजी से नंबर लेकर आपसे बात करने का प्रयास किया था पर मुझे बताया गया कि आप किसी विशेष जांच के लिए गए हुए हैं| पहले घर में फोन लगाया तो संभवत: आपके निज सेवक ने फोन उठाया| मैंने उसे जडी-बूटी का नाम बता दिया है| आपके कहने की देर है वह आपके लिए ले आयेगा| उसने बताया कि गंगा के किनारे कुछ ख़ास स्थानों में यह मिलती है पर साहब बोलेंगे तो वह ले आयेगा| इसे खाइयेगा, बहुत जल्दी ही इस समस्या से उबार जायेंगे| यूं तो यह जंगल में मिलती है पर यहाँ छत्तीसगढ़ में हमारे किसान बाकायदाइसकी व्यावसायिक खेती कर रहे हैं|

    आप लौट आये तो रौनक लौट आयी|

    ReplyDelete
  25. कहीं यह cysticercus ही तो नहीं था मानसिक हलचल का कारण :) अन्यथा न लें प्रसन्न रहें . बीमारी पूरी तरह से ठीक होने वाली है .
    शुभकामनायें स्वास्थ्य लाभ के लिए .

    ReplyDelete
  26. आपकी पोस्ट पढना सुखद रहा.....पूर्ण स्वस्थ होने की शुभकामनाएं..
    अपना ख़याल रखें....और डॉक्टर एवं (भाभी जी :)) के निर्देश का पालन करें

    ReplyDelete
  27. पुनरागमन पर हार्दिक स्वागत है…
    बीमारी के बारे में तो अमर कुमार साहब अधिक बतायेंगे, हमें तो अस्पताल में मोबाइल से आपका ब्लॉगिंग का पराक्रम पसन्द आया… 3 चीयर्स…

    गंगा किनारे घूमिये, खुश रहिये, मजे करिये… हफ़्ते में सिर्फ़ एक पोस्ट लिखें… (यह सलाह है) :)

    ReplyDelete
  28. अच्छा लगा यह जान कर कि आप ठीक हो रहे हैं।
    पूर्णतः स्वस्थ हों, ईश्‍वर से कामना है।

    ReplyDelete
  29. आपके पूर्ण स्वस्थ होने की शुभकामना

    please get well soon and besides medicine if you have faith in other healings do get in touch

    ReplyDelete
  30. आपके स्वास्थ्य के लिए सभी ने कुछ न कुछ उपाय बताया है.. बस यही कामना है कि आप सेहत और लेखन दोनो मे तालमेल रख पाएँ...

    ReplyDelete
  31. पूर्ण स्वस्थ होने के लिए शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  32. नमस्‍तें

    इलाहाबाद मे श्री केएम मिश्र और वीनस जी से आपकी तबियत के बारे मे पता चला, इधर व्‍यस्‍तता के कारण सम्‍पर्क और कुशलता नही पूछ सका, आज कानपुर जाना हो रहा है, शीघ्र ही लौट कर केएम मिश्र और वीनस जी के साथ आपसे मिलने का कार्यक्रम बताने है।

    ReplyDelete
  33. अरे वाह! आपको फ़िर एक बार सक्रिय देखकर बहुत अच्छा लगा. ऐसी स्थिति में भी ब्लॉगिंग जारी रखना जीवट का काम है और आपकी प्रतिबद्धता को दर्शाता है. मानसिक हलचल तो नॉन-स्टॉप "दूरंतो एक्सप्रेस" साबित हुई. दीदी मस्ट बी प्राउड ऑव यू.

    जल्द ही १००% स्वास्थय हासिल करें. हार्दिक शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  34. जल्दी ही पूर्ण स्वस्थ हों।

    ReplyDelete
  35. .
    .
    .
    "मुझे न्यूरोसिस्टिसर्कोसिस (NEUROCYSTICERCOSIS) का मरीज मान कर उपचारित किया जा रहा है। मस्तिष्क के दायें सामने के हिस्से में हल्की सूजन से ग्रस्त पाया गया। यह सूजन पोर्क (सूअर के मांस)/प्रदूषित जल/जल युक्त खाद्य (पत्ता गोभी, पालक आदि) से सम्भव है।"

    आदरणीय ज्ञानदत्त पान्डेय जी,

    वापसी पर स्वागत है,NEUROCYSTICERCOSIS का Modern Evidence Based Medicine के पास पुख्ता इलाज है, आपको किसी भी अन्य पद्धति के सहारे की जरूरत नहीं।

    अभी कुछेक साल पहले Leander Paes को भी यह बीमारी हुई थी और उन्होंने पूरी रिकवरी की ।

    समय मिले तो देखियेगा...

    Hydra In The Head

    और

    Leander alarm could be your wake-up call

    आभार !

    ReplyDelete
  36. sir,

    get well soon , missing our morning skirmishes.

    ReplyDelete
  37. शीघ्र ही पूर्णतह स्वस्थ हो जावे, यही कामना है. शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  38. आपकी वापसी का इन्तजार आखिर खत्म हुआ... मुझे नहीं लगता कि आपकी मानसिक हलचल के रास्ते में इतने उम्दा(?) नाम की बीमारी खड़ी रह सकेगी...
    स्वागत है...

    ReplyDelete
  39. पुनः आगमन सुखद है .....निश्चित रहिये ...निदान है .....

    ReplyDelete
  40. दिमाग मे कीडा है आम शब्दो मे कहा जाता है हमारे यहा . यह आम सी बीमारी अब खास लोगो मे भी हो रही है . बधाई बीमारी को .

    ReplyDelete
  41. स्वास्थ्य लाभ करने के लिये शुभकामनायें । मानसिक हलचल को मानसिक दृढ़ता की झलक मिल चुकी है, अनुपस्थिति से नहीं वरन दृढ़ वापसी से ।
    बीमारियाँ होती ही हैं ठीक होने के लिये ।

    ReplyDelete
  42. कल परसो ही आप को बहुत याद कर रहा था, ओर आज आप की पोस्ट देख कर दिल खुश हो गया, आप ने स्वस्थय के बारे पता चला था लेकिन बताया गया था कि आप को पी सि से दुर रखा जा रहा है, इस लिये आप को मेल नही किया, चलिये मालिस वगेरा जरुर करे हाथो की , ओर जो जो दवा डा० ने बताई वे ले, ब्लागिंग कम ही करे ... मुझे बहुत खुशी हो रही है लिख नही सकता, क्योकि कल ही मैने भगवान से आप के लिये प्राथना कि थी.... वाह

    ReplyDelete
  43. शीघ्र स्वास्थ्य की कामना करती हूँ...

    ReplyDelete
  44. आप ठीक ठाक घर लौट आये जान कर अच्छा लगा। दवा समय पर लेते रहें और खूब ब्लोगिंग करें।
    ब्लोगजगत में लौटने की बधाई

    ReplyDelete
  45. ख़याल रखें.शीघ्रातिशीघ्र पूर्ण स्वास्थय लाभ होने की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  46. Mohtaram Pandey Ji - Adaab

    Aaap pareshan na hon ! Ye zindagi ka ek naya mod , naya tadka aur ek naya experience hai. Dekhna ye hai ki is se aap kya haasil karte hain aur kya share karte hain ?

    Rahi Beemari - to wo Aaahar aur Wihar mein kahin na kahin kisi lapse ki nishani hai.

    Khuda aapko sehat de !

    Khalid Bin Umar

    ReplyDelete
  47. aapko blog par fir se sakriya dekh kar sukhad lagaa.

    न्यूरोसिस्टिसर्कोसिस is bimari ka to ham ne naam hi nai suna tha, lekin jaisa aap bata rahe hain us se to shakahari, hari sabjiyan khane walo ko bhi saavdhan hona hi hoga....

    jald hi pure taur par swasth hon, yahi kamna hai

    ReplyDelete
  48. अति शीघ्र पूर्ण स्वास्थ्य को प्राप्त करें.नियमित दवा लेते रहें.शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  49. आप जल्द पूर्ण स्वस्थ हों। शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  50. Glad to see you back. Wish you good health.

    It's wise to avoid lettuce, cabbage and other leafy vegetables which are eaten raw.

    "Prevention is better than cure"

    ReplyDelete
  51. शिव से जब आपके बीमारी के संभावित कारण का सुना था तो शरीर में एक झुरझुरी सी दौड़ गयी थी...
    कितना निश्चिन्त रह हम भोज्य सामग्री ग्रहण करते हैं...उफ़...

    खैर ईश्वर आपको शीघ्रातिशीघ्र पूर्ण स्वस्थ्य लाभ कराएँ...कृपया डॉक्टर और भाभीजी की हिदायतों का पूरा पालन करें...
    वैसे इस अवस्था में भी आपने लेखन और पठान पाठन जारी रखा....इससे बड़ी प्रेरणा मिली...

    ReplyDelete
  52. इस बीमारी का नाम पहली बार सुना.आपके शीघ्र पूर्ण स्वास्थ्य लाभ की कामना करता हूँ.

    ReplyDelete
  53. पहली बार इस बीमारी का नाम सुनने के कारण इसके बारे में जानने की जिज्ञासा के तहत इन्टरनेट से इसके देशी उपचार की विधि जानी. मैं समझता हूँ किसी भी व्यक्ति को इस उपचार से हानि तो नहीं पहुंचेगी, लाभ हो या न हो.उपचार है - खाली पेट एक चम्मच तिल का तेल पीना और दिन में दो बार अन्नानास के रस का सेवन.

    ReplyDelete
  54. स्वागत आपका, प्रार्थना ईश्वर से, शुभकामनाएं स्वस्थ और प्रसन्न जीवन की।

    ReplyDelete
  55. जल्द पूर्ण स्वस्थ हों। शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  56. बीमारियाँ होती ही हैं ठीक होने के लिये ।

    ReplyDelete
  57. टेन्शन नहीं लेने का, जल्दी सोने का, और भी बहुत बहुत बहुत कुछ
    वह बाद में बतायेंगा ।

    ReplyDelete
  58. आपकी कई पोस्‍टें मेरे सिर के ऊपर से निकल जाती हैं फिर भी आपको पढना अच्‍छा लगता है।

    जल्‍दी स्‍वस्‍थ हो जाइए।

    शुभ-कामनाऍं।

    ReplyDelete
  59. बहुत दिनों के अंतराल पर ऑनलाइन हुआ हूँ आपका पोस्ट देखा - ब्लोगिंग वगैरह तो ठीक है..मगर आप अपना ख्याल रखिये. शीघ्र ही स्वस्थ हों ऐसे कामना है. सादर प्रणाम

    ReplyDelete
  60. दवाओं की अवधि भी बीत जायेगी जैसे छाता
    लगाकर चलता हुआ व्यक्ति धूप और बरसात का
    समय काट देता है !

    बाकी आपकी सक्रियता बनी रहेगी , क्योंकि अनवरत
    क्रियाशीलता आपका स्थाई भाव है !
    आपसे मिलने के बाद मेरा यह विश्वास और दृढ़ हुआ है !
    '' बड़ रखुवार रमापति जासू '' !

    ReplyDelete
  61. ज्ञान जी स्वागत है आपका . आज ही इधर आना हुआ . शिव भाई से स्वास्थ्य-लाभ के सभी समाचार मिलते रहते थे. जब पच्चासी प्रतिशत रिकवरी हो गई है तो बाकी पन्द्रह प्रतिशत भी जल्द होगी. बहुत जल्द . ज्यादा बोझ न लें और नियमित दवा-व्यायाम जारी रहे. आस्तिक आदमी को तो एक अतिरिक्त सहारा भी होता है.ईश्वर सब ठीक करेंगे.बस बीच-बीच में छोटी-छोटी पोस्ट लिखते रहें . सादर, प्रियंकर

    ReplyDelete

आपको टिप्पणी करने के लिये अग्रिम धन्यवाद|

हिन्दी या अंग्रेजी में टिप्पणियों का स्वागत है|
--- सादर, ज्ञानदत्त पाण्डेय